Success story in hindi: कर्ज लेके शुरू किया एक छोटी सी दुकान से ओर खड़ी करदी 17 हजार करोड़ की कंपनी , विदेश में भी चल रहे है स्टोर ।

Success story in hindi

Success story in hindi: नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने अपनी मेहनत और सच्ची लगन से सफलता हासिल की है और आज वो बहुत से लोगों के लिए प्रेरणा बन गए है
उन्होंने से साबित कर दिया है अगर अपने सपनों को पूरा करने के लिए मेहनत की जाए तो कोई भी ऐसा काम नहीं है जो नहीं हो सकता अगर कोशिश की जाए तो इंसान बिल्कुल ज़ीरो से शूरवात करके भी बुलंदियों को हासिल कर सकता है हम बात कर रहे है
एक कारोबारी परिवार में जन्मे कल्याणरमन की जिनके जीवन में एक समय ऐसाभी था जब उन्होंने लोन लेकर खुद की ज्वैलरी शॉप खोलनी पड़ी लेकिन आज उनकी वो छोटी से शॉप के बड़ा ब्रांड बन चुकी है चलिए आपको इनके जीवन के बारे में विस्तार से बताते है

कल्याण रमन की कहानी

आप सब ने कल्याण jewellers का नाम तो सुना ही होगा आपको बता दे कल्याणरमन जी ने लोन लेकर अपनी एक छोटी सी ज्वेलर्स की दुकान खोली थी और आज उनकी दुकान एक शहर में नहीं बल्कि पूरे देश में है एक व्यक्त था जब कल्याण jewellers के फाउन्डर टीएस कल्याणरमन के पास कुछ भी नहीं था यहाँ तक की उन्हे लॉन लेकर अपनी एक छोटी सी दुकान को खोला था और उनकी वो दुकान के ब्रांड बन चुकी है

त्रिशूर में हुआ जन्म

23 अप्रैल 1947 को केरल के त्रिशूर में कल्याणरमन का जन्म हुआ था आपको बता दे की कल्याणरमन के पिता टीआर सीतारम्मैया कपड़े के व्यापारी थे तथा इनके दादा एक पुजारी थे लेकिन बाद में वो एक कारोबारी बन गए थे 12 साल की छोटी से उम्र में ही कल्याणरमन अपने पिता के साथ कपड़ों की दुकान में काम किया करते थे जहां से उन्होंने बिजनस के बारे में बहुत खुश सीखा अपने ग्रेजुएशन  के लिए  उन्होंने केरल के श्री केरल वर्मा कॉलेज में दाखिला लिया जहां से उन्होंने कॉमर्स में अपना ग्रेजुएशन पूरा किया

read more: 10 हजार रुपेय उधार लेके शुरू किया था बिजनेस ,आज साउथ से लेके बॉलीवुड के बडे बड़े actors को देते है काम।

लोन लेकर शुरू किया बिजनेस

अपने पारिवारिक कारोबार में कल्याणरमन को कोई रुचि नहीं थी उन्होंने कुछ समय तक किसी दूसरी जगह नौरकी करके 25 लाख रुपए जमा कर लिए थे वो इन पैसों से एक ज्वैलरी शॉप खोलना चाहते थे लेकिन उनके पास पैसे कम थे जिसके लिए उन्होंने बैंक से लोन लेने का निर्णय लिया काफी दिक्कतों के बाद उन्हे बैंक से 50 लाख रुपए का लोन मिल गया अब उनके पूरे 75 लाख रुपए हो चुके थे
जिसके साथ उन्होंने त्रिशूर में एक ज्वैलरी शॉप खोल ली जिसका नाम उन्होंने कल्याण ज्वैलर्स रखा अपने बिजनस को सफल बनाने के लिए उन्होंने काफी मेहनत की कुछ समय बाद उनका बिजनस चलने लगा जिसके बाद उन्होंने केरल से होते हुए कई दूसरे राज्य में भी अपने स्टोर खोले और देखते ही देखते उनकी छोटी सी दुकान एक ब्रांड बन गई और आज पूरे देश में उनके 200 से भी ज्यादा स्टोर है

विदेशों में भी चलते है स्टोर 

कल्याण रमन की मेहनत के कारण आज के समय में उनक अकरोबर विदेशों तक फैल चुका है सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि आज के समय में उनके विदेशों में भी कई स्टोर है यूएई, कतर, कुवैत और ओमान में कल्याण ज्वैलर्स के 30 शो रूम खोले गए है आज के समय में टीएस कल्याणरमन को भारत का सबसे अमीर ज्वैलर माना जाता है इनकी कुल संपती की बात करें तो आपको बता दे की कल्याण रमन की कुल नेट वर्थ 17 हजार करोड़ रुपए से भी ज्यादा है

Conclusion 

आशा करते है की आपको इस कहानी से बहुत सारी प्रेरणा मिउली होंगी यदि कहानी पसंद आई हो तो हमे कमेन्ट करके जरूर बताए और अगर आप कल्याण रमन के जीवन के बारे में हमसे कुछ और पूछना चाहते है तो नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते है इसके अलावा ऐसे और प्रेरणा वाली सच्ची कहानियों को पढ़ने के लिए हमे सोशल मीडिया पर जरूर फॉलो करें क्योंकि वहाँ हम ऐसी कहानियों के बारे में पोस्ट करते रहते है

FAQ 

1.कल्याण रमन की कुल संपती कितनी है ?

उत्तर – कल्याण रमन की कुल संपती 17,000 करोड़ रुपए से भी ज्यादा है।

2.भारत में कल्याण रमन के कितने ज्वेलर्स स्टोर है ?

उत्तर – भारत में कल्याण रमन के लगभग 200 से ज्यादा ज्वेलर्स स्टोर मौजूद है।

3.कल्याण रमन का जन्म कहाँ हुआ था ?

उत्तर – कल्याण रमन का जन्म केरल के त्रिशूर शहर में हुआ था।

4.कल्याण रमन ने कितने रुपए का लोन लेकर अपना बिजनस शुरू किया था ?

उत्तर – कल्याण रमन ने 25 लाख रुपए नौकरी करके जमा किए थे और बैंक से 50 लाख रुपए लेकर अपनी एक छोटी से jewellers शॉप खोली थी जो आज एक ब्रांड बन चुकी है।

Hello, friends, my name is Bhavesh, I am the author and founder of this blog, and through this website I share with you all the information related to business, education, automobile, technology and entertainment.

Leave a comment